कंगना ने शबाना आजमी को बताया एंटी-नेशनल, कहा ‘फिल्म इंडस्ट्री भरी पड़ी है ऐसे लोगों से’

58

पुलवामा में गुरुवार को हुए आतंकी हमले के बाद पूरा देश गुस्से में है। सोशल मीडिया पर बॉलीवुड स्टार्स भी लगातार इस पर अपना रिएक्शन दे रहे हैं। गीतकार जावेद अख्तर और शबाना आजमी पाकिस्तान में होने वाले एक इवेंट में शामिल होने वाले थे, लेकिन पुलवामा हमले के बाद उन्होंने इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया हैं। इस मामले में कंगना ने अपनी राय व्यक्त की है जो शबाना और जावेद को शायद पसंद नहीं आएगी।

कंगना ने ‘डीएनए’ से कहा है ‘शबाना जैसे लोगों ने ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ गैंग को प्रमोट किया था। सबसे पहली बात तो यह कि कराची में इवेंट रखा ही क्यों गया जबकि पाकिस्तानी आर्टिस्ट्स को उरी अटैक के बाद बैन कर दिया गया है? ये लोग अब अपना चेहरा बचाने की कोशिश कर रहे हैं। फिल्म इंडस्ट्री ऐसे एंटी नेशनल्स से भरी पड़ी है जो दुश्मनों को बढ़ावा देते हैं।’

जावेद अख्तर ने लिखा था, ” कराची आर्ट काउंसिल ने आमंत्रित किया था। शबाना और मैं दो दिन के लिए कैफी आजमी और उनकी कविताओं पर होने वाली लिट कॉन्फ्रेंस के लिए जाने वाले थे। लेकिन अब हमने यह प्रोग्राम कैंसिल कर दिया है। साल 1965 में भारत-पाक युद्ध के दौरान कैफी साहब ने एक कविता लिखी थी, ‘और फिर कृष्ण ने अर्जुन से कहा..’

बता दें कंगना ने भी अपनी फिल्म ‘मणिकर्णिका’ की सक्सेस पार्टी इस हमले के बाद रद्द कर दी है। कंगना की बात पर शबाना ने कहा है ‘क्या आपको लगता है कि यह समय पर्सनल अटैक करने का है, जबकि पूरा देश इस मौके पर साथ खड़ा होने की बात कर रहा है। गॉड ब्लेस हर!!’

शबाना का कार्यक्रम पाकिस्तान के कराची में आयोजित किया जाने वाले था, जिसमें शबाना-जावेद बतौर चीफ गेस्ट शामिल होने वाले थे।

आतंकी हमले की निंदा करते हुए जावेद अख्तर ने अपने सोशल अकाउंट पर लिखा है कि, ‘मेरा CRPF से विशेष संबंध हैं क्योंकि मैंने उनके एंथम सॉन्ग को लिखा है, कलम को कागज पर रखने से पहले मैंने कई सीआरपीएफ अधिकारियों से मुलाकात की थी। बहादुर जवानों के परिजनों को मेरी संवेदनाएं।’ जावेद अख्तर और उनकी पत्नी शबाना आजमी ने पाकिस्तान में होने वाले दो दिन के कार्यक्रम में न जाकर Jaish-e-Mohammed (JeM) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। बता दें कि न सिर्फ जावेद अख्तर और शबाना आजमी बल्कि बॉलीवुड, खेल जगत और राजनीति से जुड़े तमाम लोगों ने इस आतंकी हमले का विरोध किया है।

बता दें कि, जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर अवंतीपोरा के पास गोरीपोरा में हुए हमले में सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद हो गए। लगभग 30 जवान जख्मी हैं। हमले को पाकिस्तान से संचालित जैश ए मुहम्मद ने अंजाम दिया। इसके बाद भारत ने बड़ा कदम उठाते हुए पाकिस्तान को दिया मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा छीन लिया है। वहीं पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा है कि सुरक्षाबलों को पूरी छूट दे दी गई है। हमले के बाद देश में गुस्सा है वहीं गृहमंत्री राजनाथ सिंह कश्मीर पहुंचे जहां शहीदों को नमन कर उनकी पार्थिव देह को कांधा दिया।

Courtesy..NaiDunia