पीएम नरेन्द्र मोदी की बायोपिक को मिला UA सर्टिफिकेट, MNS ने लगाए सेंसर बोर्ड पर आरोप

45

बॉलीवुड डेस्क. विवेक ओबेरॉय अभिनीत प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी की बायोपिक कंट्रोवर्सी में घिरी हुई है। यह फिल्म पिछले सप्ताह रिलीज होनी थी, लेकिन चुनाव के समय इसकी रिलीज पर कुछ राजनैतिक दलों द्वारा आपत्ति जताने के बाद इसे एक सप्ताह आगे बढ़ा दिया गया। निर्माता इस सप्ताह फिल्म को 11 अप्रैल को रिलीज करने की योजना बना रहे हैं, लेकिन इससे पहले कि वे फिल्म को रिलीज करने के लिए सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी मिलने का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने एक और आरोप लगाया है कि केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के प्रमुख प्रसून जोशी ने फिल्म को प्रमाणपत्र देने के लिए नियमों की धज्जियां उड़ा दीं।

MNS ने कहा-सेंसर प्रमुख इस्तीफा दें

  1. MNS ने मांग है कि नियम तोड़ने के लिए प्रसून को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। नियम के अनुसार, ‘ फिल्म निर्माताओं को रिलीज से 60 दिन पहले रिव्यू और सर्टिफिकेट के लिए अपनी फिल्मों को प्रस्तुत करना चाहिए और नरेंद्र मोदी की बायोपिक के मेकर्स ने इसका पालन नहीं किया। जबकि प्रसून ने क्लेरिफिकेशन दिया है कि फिल्म को प्रमाण पत्र मिलना बाकी है। एक सूत्र का कहना है, ‘मेकर्स को फिल्म के लिए UA प्रमाणपत्र दिया गया है और वे सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई का इंतजार कर रहे हैं। एक बार जब फैसला आ जाएगा, तो वे फिल्म को रिलीज करने के लिए बाकी की प्रॉसेस को पूरा करेंगे।’

    इससे पहले विवेक और निर्माता संदीप सिंह ने चुनाव आयोग के सदस्यों से मिलकर उन्हें सूचित किया था कि फिल्म का भारतीय जनता पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है। उन्हें मुंबई के हाईकोर्ट से मंजूरी मिल गई है।

Courtesy: Bhaskar