जलसंकट से जूझ रहे चेन्नई को रोजाना ट्रेन से एक करोड़ लीटर पानी पहुंचाएगी राज्य सरकार

69

चेन्नई। मानसून की बढ़ती रफ्तार के साथ देश के अलग-अलग राज्यों में छाने लगा है लेकिन चेन्नई में हालात अकाल के पैदा हो गए हैं। पानी की किल्लत से जूझ रहे राज्य की मदद के लिए तमिलनाडु सरकार आगे आई है। खबर है कि राज्य सरकार ने चेन्नई को रोजाना पानी पहुंचाने की तैयारी में है।

जानकारी के अनुसार तमिलनाडु ने पानी की कमी से जूझ रहे चेन्नई को वेल्लोर जिले के जोलारपेट्टई से हर रोज एक करोड़ लीटर पानी ट्रेन से पहुंचाने की योजना बनाई है। मुख्यमंत्री के पलनीस्वामी ने शुक्रवार को कहा कि इसके लिए 65 करोड़ रुपए का प्रबंध किया गया है।

वहीं दूसरी तरफ केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन से उन्होंने मुल्लपेरियार बांध में पानी भंडारण क्षमता को बढ़ाने में सहयोग करने का आग्रह किया है। चेन्नई में जलापूर्ति और सीवरेज बोर्ड हर रोज 525 मिलीयन लीटर पानी की सप्लाई कर रहा है। जोलारपेट्टई से पानी आने के बाद आपूर्ति बढ़ाई जाएगी।

मुख्यमंत्री पलनीस्वामी ने केरल सरकार की ओर से जलापूर्ति करने की पेशकश का स्वागत किया है। केरल के मुख्यमंत्री विजयन ने गुरुवार को जल संकट का सामना कर रहे पड़ोसी राज्य को 20 लाख लीटर पेयजल की आपूर्ति करने का प्रस्ताव रखा था। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार इस संबंध में केरल सरकार को पत्र लिखेगी।

उन्होंने कहा कि केरल सरकार मुल्लपेरियार बांध की क्षमता को 142 फीट से 152 फीट करने में अड़चन डाल रही है। उन्होंने केरल के मुख्यमंत्री विजयन से सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करने में सहयोग करने की अपील की है। यह बांध केरल में स्थित है लेकिन, इसे तमिलनाडु सरकार ही संचालित कर रही है।

पलानीस्वामी ने कहा कि चेन्नई के लोगों को टैंकरों से भी पानी की आपूर्ति की जा रही है। लोगों तक पानी पहुंचाने के लिए 800 टैंकर हर रोज अलग-अलग इलाकों में 9,800 चक्कर लगा रहे हैं।

चेन्नई के मुख्य दो जलाशयों में बेहद कम पानी बचा है और वे सूखने की कगार पर हैं। शहर के लोग पानी की किल्लत से जूझ रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्य जलाशयों के सूखने के बाद वरिष्ठ अधिकारियों को अपने जोन में पानी की आपूर्ति पर नजर रखने को कहा गया है। उन्होंने इन बातों का खंडन किया है कि मंत्रियों के घरों पर हर रोज दो टैंकरों से पानी की आपूर्ति हो रही है। इससे पहले उन्होंने तमिलनाडु में पेयजल योजना के लिए 200 करोड़ रुपये जारी करने के आदेश दिए थे।

 Courtesy: NaiDunia