अपने घर का सपना देखने वालोंं के लिए खुशखबरी, 81 लाख से अधिक मकान के प्रस्‍ताव मंजूर

45

नई दिल्ली। अपने घर का सपना देखने वालों के लिए अच्‍छी खबर है। सरकार ने ऐसे 81 लाख से अधिक मकानों के प्रस्‍ताव पर मुहर लगा दी है। सरकार को सभी शहरी गरीबों को पक्का मकान देने का लक्ष्य 2020 तक पूरा करने की उम्‍मीद है। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि इस पर कुल पांच लाख करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है।

योजना में अभी तक 48 लाख मकान निर्माणाधीन हैं। इस पर कुल सवा लाख करोड़ रुपये का निवेश होगा। योजना में हर घर में नल से पेयजल आपूर्ति, सीवरेज लाइन डालने, बारिश के पानी से निपटने वाली नालियां बनाने का लक्ष्य पूरा हो रहा है।

ये होंगी प्रमुख सुविधाएं 

पेयजल आपूर्ति के लिए 39 हजार करोड़ रुपये, सीवरेज के लिए 32 हजार करोड़ रुपये और बारिश के पानी की निकासी के लिए 3 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया। शहरी परिवहन के लिए गैर मोटर क्षेत्र में डेढ़ हजार करोड़ रुपये और पार्क के लिए पौने दो हजार करोड़ रुपये का प्रावधान है।

भारत की रैंकिंग सुधरी 

पुरी ने बताया कि अमृत योजना से शहरी बुनियादी ढांचे में विकास से भारत में रहने और कारोबार करने की सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं। ईज आफ डूईंग बिजनेस इंडेक्स में भारत 183वें पायदान से उछलकर 52वें स्थान पर पहुंच गया है।

योजना की ये है प्रगति 

शहरी विकास मंत्रालय की तीसरी पहल स्मार्ट सिटी मिशन के तहत एक सौ शहरों को स्मार्ट बनाने की दिशा में काम चल रहा है। चुने गए सभी स्मार्ट सिटी में एसपीवी बना दी गई है। सभी चयनित शहरों में प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंट नियुक्त कर दिये गये हैं।

100 शहर स्तरीय एडवाइजरी फोरम गठित किए गए हैं। इन स्मार्ट सिटी में कुल 5,151 परियोजनाओं के पूरा होने में दो लाख करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। लगभग 900 परियोजनाएं पूरी भी हो चुकी हैं। लगभग 2,800 परियोजनाएं पूरी होने के अंतिम चरण में पहुंच चुकी हैं। साढ़े तीन हजार परियोजनाओं के टेंडर हो चुके हैं। 

Courtesy: NaiDunia