ताईवान को 15 हजार करोड़ रुपए के हथियार बेचने का सौदा तत्काल रद करे अमेरिका : चीन

12

वॉशिंगटन। अमेरिकी विदेश विभाग ने ताईवान को 2.2 अरब डॉलर (करीब 15 हजार करोड़ रुपए) के हथियार बेचने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने यह जानकारी दी है। चीन ने इस रक्षा सौदे पर नाराजगी जताते हुए अमेरिका से इसे तुरंत रद्द करने की मांग की है। बताते चलें कि विश्व की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं अमेरिका और चीन के बीच पहले से ही ट्रेड वॉर को लेकर खींचातान चल रही है।

अमेरिका के नए रक्षा सौदे की वजह से दोनों देशों के बीच संबंधों में और तनाव आने की आशंका है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने मंगलवार को कहा कि यह चीन की संप्रभुता और सुरक्षा मामलों में दखल है। अमेरिका की रक्षा सुरक्षा सहयोग एजेंसी (डीएससीए) के अनुसार, ताईवान ने अमेरिका से 250 स्ट्रिंगर मिसाइल और 108 एम1ए2टी एब्राम्स टैंक के अलावा अन्य रक्षा उपकरणों की मांग की थी, जिसे मंजूर कर लिया गया है।

इन हथियारों से लैस होकर ताईवान अपनी रक्षा में आ रही चुनौतियों से निपटने में और सक्षम होगा। अमेरिकी संसद को इस सौदे के बारे में सूचित कर दिया गया है। सौदे पर एतराज जताने के लिए अमेरिकी सांसदों के पास 30 दिन का समय है, जिसकी संभावना कम ही है। चीन को यह सौदा जरूर नागवार लग रहा है।

संप्रभुता को लेकर ताईवान और चीन के बीच लंबे समय से तनातनी चल रही है। 1949 के गृहयुद्ध के बाद ताईवान ने अपनी आजादी की घोषणा कर दी थी, लेकिन चीन उसे अपने देश का ही हिस्सा मानता है। वह ताईवान के साथ किसी तरह के रक्षा सौदे का पुरजोर विरोध करता रहा है।

Courtesy: NaiDunia