World Cup 2019 Final: न्यूजीलैंड इन दुर्भाग्यशाली टीमों के खास समूह में शामिल

23

मल्टीमीडिया डेस्क। मेजबान इंग्लैंड ने रविवार को लॉर्ड्स पर खेले गए क्रिकेट वर्ल्ड कप के उतार-चढ़ाव से भरे फाइनल में न्यूजीलैंड को हराकर पहली बार वर्ल्ड कप हासिल किया। मैच निर्धारित समय में टाई रहने के बाद इसका फैसला सुपर ओवर में गया लेकिन उसमें भी दोनों टीमों के रन बराबर रहे जिसके बाद इंग्लैंड ने ज्यादा बाउंड्रीज के आधार पर मैच जीता।

न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 8 विकेट पर 241 रन बनाए। हैनरी निकोल्स ने 55 और टॉम लाथम ने 47 रन बनाए। इसके जवाब में बेन स्टोक्स की शानदार नाबाद अर्द्धशतकीय पारी (84) से इंग्लैंड की पारी 241 रनों पर समाप्त हुई और मैच टाई हो गया। इसके बाद सुपर ओवर हुआ। सुपर ओवर में पहले बल्लेबाजी कर इंग्लैंड ने 15 रन बनाए, जिसके जवाब में न्यूजीलैंड भी 15 रन ही बना पाया। इंग्लैंड ने मैच में ज्यादा बाउंड्रीज के आधार पर जीत दर्ज की।

न्यूजीलैंड इसी के साथ लगातार दूसरी बार फाइनल में हारा। उसे 2015 वर्ल्ड कप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के हाथों 7 विकेट से हार झेलनी पड़ी थी। कीवी टीम इसी के साथ उन दुर्भाग्यशाली टीमों के खास समूह में शामिल हो गई जिसे लगातार दो बार वर्ल्ड कप फाइनल में हार मिली। इससे पहले ऐसा इंग्लैंड और श्रीलंका के साथ हो चुका था।

इंग्लैंड 1987 और 1992 के वर्ल्ड कप में उपविजेता रहा था। उसे 1987 के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने 7 रनों से हराया जबकि पाकिस्तान ने उसे 1992 में 22 रनों से हराकर खिताब हासिल किया था। इसके बाद श्रीलंका को लगातार दो बार उपविजेता बनना पड़ा था। 2007 में ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को 53 रनों से और 2011 में भारत ने श्रीलंका को 6 विकेटों से हराया था।

Courtesy: NaiDunia