CBSE Board Exams में लाना चाहते हैं अच्छे मार्क्स, तो ना करें ये काम

24

ज्यादातर विद्यार्थी अपनी कक्षाओं के समय की वजह से पिछड़ जाते हैं, जो शैक्षिक प्रदर्शन में कमी के साथ गंभीरता से जुड़ा है.

नई दिल्ली: 10वीं और 12वीं की दोबारा परिक्षाओं को लेकर सभी छात्र तनाव में हैं. गणित और इकोनॉमिक्स की पढ़ाई फिर से जारी रखने के लिए वो दिन-रात मेहनत कर रहे हैं. इस बीच आई एक स्टडी का कहना है कि विद्यार्थियों द्वारा देर रात तक अध्ययन करने से खराब अंक आने की संभावना रहती है. ऐसे में विद्यार्थियों के अध्ययन के लिए प्राकृतिक रूप से समय का निर्धारण करना बेहतर होता है. ऐसे विद्यार्थी, जिनकी समय सारिणी उनकी कक्षा के निर्धारण से मेल नहीं खाती, जैसे रात में जगने वाले विद्यार्थी सुबह की कक्षाओं में जाते हैं, तो उन्हें खराब अंक हासिल होते हैं.

एग्जाम के दौरान बच्चों को पिलाएं ये 5 ड्रिंक्स, बढ़ेगी दिमागी शक्ति और कम होगा स्ट्रेस

कैलिफोर्निया-बर्कले विश्वविद्यालय में किए गए इससे संबंधित एक शोध के सह-लेखक बेंजामिन स्मार ने कहा, “हमने पाया है कि ज्यादातर विद्यार्थी अपनी कक्षाओं के समय की वजह से पिछड़ जाते हैं, जो शैक्षिक प्रदर्शन में कमी के साथ गंभीरता से जुड़ा है.”

bdee06c4ee85172933aaa0a4573015d5पढ़ाई के साथ अपनाएं ये 4 TIPS, बढ़ेगी मेमोरी और रिजल्ट होगा बेहतर

इस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए दल ने कैंपस सर्वर में लॉग करने वाले करीब 15,000 विद्यार्थियों की ऑनलाइन क्रियाविधि पर नजर रखीं.

Exam Tips: परीक्षा के समय बच्चा हो रहा है चिड़चिड़ा या बीमार? तो ऐसे करें उसे पेपर के लिए तैयार

इसमें विद्यार्थियों को उनकी कक्षा में नहीं होने व गतिविधियों के आधार पर बांटा गया और शोधकर्ताओं ने उनकी कक्षा के समय व अकादमिक नतीजों की तुलना की. (इनपुट – आईएएनएस)

Courtesy: NDTV India